25 minutes | Apr 23, 2021

StoryJam Kahani : Yeh Kahani Nahi by Amrita Pritam

When the world is spiraling down fast, what choice do we have but to galvanize hope by speaking of love, with love. ------------------------ ऐ मेरे दोस्त! मेरे अजनबी!  एक बार अचानक – तू आया  वक़्त बिल्कुल हैरान  मेरे कमरे में खड़ा रह गया।  साँझ का सूरज अस्त होने को था,  पर न हो सका  और डूबने की क़िस्मत वो भूल-सा गया…        अमृता प्रीतम और साहिर लुधियानवी  ... जिनकी  मोहब्बत का सैलाब न दुनियादारी के उसूलों की गिरफ्त में आया न ही लव्ज़ों के  बाँध में समाया। ता उम्र अमृता साहिर के लिए अपनी ज़िन्दगी में जगह बनाती  रही- कभी शायरी में, कभी कहानी में...क्योंकि वक़्त ने घर में जगह बनाने का  हक़ बहुत पहले छीन लिया था.  Amrita Pritam visits Sahir Ludhiyanavi in Bombay. By then she is a  famous writer and he is the most sought after lyricist. Their visit is  an ephemeral reminder of what could have been but is not, and never will  be. --- Send in a voice message: https://anchor.fm/storyjam/message
Play
Like
Play Next
Mark
Played
Share